(अब्दुल चौधरी)

मुम्बई : मलाड पश्चिम स्थित मालवणी पुलिस स्टेशन मैं कार्यरत कुछ पुलिस वाले अपने ही पुलिस स्टेशन में घूमने से डरते है , अब आप सोच रहे होंगे के आखिर ऐसी कौनसी मुसीबत पुलिस स्टेशन के आस-पास है जिसकी वजह से पुलिस वालों को डर लगता है , आपको इतना तो पता ही होगा की किस्सी भी पुलिस स्टेशन में जाने के बाद बड़े से बड़े गुंडे व अपराधी को डर लगने लगता है तो मालवणी पुलिस स्टेशन में एसी कौनसी मुसीबत है जिस्से उलट पुलिस वालों को ही डर लगने लगा है, अब बात की जाए कुछ आछे लोगों के सोच की तो काफी ऐसे भी लोग दुनिया मे मौजूद है जो ये मानते हैं कि हॉस्पिटल, कोर्ट कचहरी, और पुलिस स्टेशन का दर्शन भगवान कभी उनके दुश्मन को भी ना करवाए, आपको ये जानकर आश्चर्य होगा के मालवणी पुलिस स्टेशन के अंतर्गत कुछ ऐसे लोग खुलेआम घूम रहे हैं जिनकी वजह से कुछ पुलिस वाले इनदिनों डरें व परेशान रहते है, पुलिस की सबसे बड़ी डरने की वजह और उनकी परेशानी का सबब बन चुकी पूनम नामक तकरीबन 45 वर्षीय महिला है, ये महिला अपना घर परिवार छोड़कर कुछ दिनों से मालवणी पुलिस स्टेशन से सटे शंकर भगवान के मंदिर में रहने लगी है, पूनम पुलिस वालों के बार-बार मना करने के बावजूद उनके सामने जान बूझकर बिना कपड़ों के नहाती है, इसके अलावा दिन भर पुलिस स्टेशन में आने-जाने वालों को टोकती व धमकाती रहती है, वही दूसरी तरफ पुलिस वालों को बिना मतलब हाथ मिलने के लिए अपना हाथ बढ़ाकर परेशान भी करती है, पुलिस वालों के लिए पूनम इस लिए भी मुसीबत की वजह है क्यों के व रात में जिस शंकर मंदिर में सोती है वहां कई आंजन पुरुष भी सोया करते है, मुमकिन है किस्सी दिन अगर किस्सी व्यक्ति द्वारा पूनम के साथ कुछ गलत मामला हुआ तो जनता यही कहेगी के पुलिस स्टेशन के सामने देखो ये क्या हो गया, ये भी कहना गलत नही होगा के इस प्रकार की घटना के लिए पुलिस वालों को ही अक्सर जिम्मेदार बताया जाता है, पुलिस की दूसरी मुसीबत एक पुरुष है जिस्से पुलिस ही नही बल्के उस ड्रामेबाज व्यक्ति के खुद घरवालों भी परेशान हैं, पुलिस स्टेशन में घूम-घूम कर पागलों वाली हरकत करना व गाने गा कर लोगों को परेशान करना मानो शाकिर अब्दुल हमीद शेख 45 वर्षीय व्यक्ति के लिए मानो रोज़ का काम बन गया हो, पुलिस स्टेशन से बार-बार भगाए जाने के बाद भी शाकिर वापस पुलिस स्टेशन लॉट आता है, आम जनता के साथ-साथ पुलिस भी इस पागलपन दिखाने वाले रिक्शा ड्राइवर शाकिर से परेशान हैं, तीसरी परेशानी का नाम तो नही पता मगर ये व्यक्ति भी पागलपन दिखा कर पुलिस स्टेशन में आने-जाने वालों के साथ-साथ पुलिस वालों के सामने भी ज़ोर-शोर से गाने गाकर शोर मचाया करता है, गौरतलब है के मालवणी पुलिस स्टेशन में घूम रहे सभी ड्रामेबाज कभी-कभी तो पुलिस स्टेशन में आने वाले लोगों के खिलाफ अचानक इतना आक्रामक हो जाते हैं जिस्से ये भी खतरा बना रहता है के किस्सी दिन किस्सी बेकसूर व्यक्ति के साथ कोई बडा हादसा ना हो जाए, गौरतलब है के मालवणी में सक्रिय संस्था जनहित विचार फाउंडेशन को जब इस गंभीर मामले की जानकारी प्राप्त हुई तो तुरंत संस्था से जुड़ी महिला समाजसेविका श्रीमती राजीथा मनोज जैसवाल मैडम ने मालवणी पुलिस स्टेशन के सीनियर पुलिस अधिकारी जगदेव कालापाड साहब को लिखित शिकायत पत्र देकर पुलिस स्टेशन के अंतरगत चल रही ड्रामेबाज़ी से अवगत करते हुए पुलिस वालों व आम लोगों को परेशान करने वाले लोगों पर उचित से उचित कानूनी कार्यवाही करने की मांग की है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here